Monday, October 1, 2007

"आभास का दीवाना हुआ शहर !!"

उन हाथों को चूम लेना चाहता हूँ !! आभास कि जीत तो पक्की है.... मेरी इस पंक्ति के पूरे होते होते शायद आभास शायद जीत चुका होगा.....! जबलपुर,मध्य-प्रदेश,भारत,जर्मनी,शारजाह,यू०ए०ई०, सिंगापुर,यू० के०, पाकिस्तान जहाँ से जिसने भी आभास को सराहा जीं चाहता है.... मैं उन हाथों को चूम लूँ.....!यकीन कीजिये उन हाथों को चूम लेना चाहता हूँ...! ये कहा राजेश पाठक "प्रवीण" ने शहर जबलपुर जागते हुये पत्थरों का शहर है.... महाकौशल संस्कारों का क्षेत्र है... भ्रगु-ऋषि , की तपोस्थलि का अनुपम सौन्दर्य जहाँ से जो भी जात्रा शुरू होती है.. संघर्ष भरी भले हो सफल ज़रूर हो जाती है...! आभास का सफ़र "टी० वी०एस० सा..रे..गा..मा...पा...!" से शुरू हुआ था आभास ने जीता था वो खिताब और तब से पिछले तीन माह से अमूल-स्टार-वाईस-ऑफ़-इंडिया के लिए संघर्ष रत है...एलिमिनेट हुआ जबलपुर से आभास भैया को राखी भेजने वाली शिवानी से खाना नहीं खाया था तो राखी स्पेशल के मौके पर स्टेज पर जाकर राखी बाधने वाली निष्ठा ने शहर से सवाल किया... वो हाथ क्यों थके-थके हैं जिन्हौंने ताज को नंबर वन पर लाने सर्वाधिक वोट देकर शहर जबलपुर का नाम नंबर वन पर दर्ज़ कराया ...? तो नन्हाँ ब्लागिया चिन्मय , उसका दोस्त गुरू यानी अनुभव इतने उदास थे कि अपने दोस्तों से कुट्टी कर ली, गुमसुम घर में बैठे बतिया रहे थे-"मेरे दोस्तों ने शायद वोट नहीं किये अपने आभास को...हमें इनसे बात नहीं करनी !" जितेन्द्र भाई सतीश भैया सबको धीरज देते सच्चा सुर है जीतेगा ज़रूर ! गोविन्द भाई तो बेचैन थे हीरा जीं यानी पं. रोहित तिवारी जीं की बेचैनी से .... प्रह्लाद जीं राजा वंशकार सतीश वंशकार सब-के-सब परेशान ...... आभास के लिए मुहिम छेड़ने वाले महाकौशल के अखबार में भी आभास को लेकर चिंता थी , प्रभाव शाली ढंग में वोट अपील जारी कर मीडिया ने जो मदद की वो सब हतप्रभ...! आभास जोशी स्नेह मंच के लोग केबल-वार के शिकार उन इलाकों में गए जहाँ स्टार प्लस नहीं दिखाया जाता जबलपुर बरेला बरगी पनागर तो मानो आभास को वी०ओ०आई० का विजेता मान ही चुका है...! मुझे विश्वास है फिर गूंजेगी शांतनु मुख़र्जी "शान" की आवाज़ -"जब्बलपुर...के...आभास .....!" आलेख डाक्टर संध्या जैन श्रुति जबलपुर

No comments: